लघु प्रयास

2 comments

  1. R K Jain says:

    Jai Jinendra .. Apka prayas atyant sarahniya hai.. apki guru bhhakiaur jin shasan ki prabhavana isi prakar vriddhi ko prapt ho.. apko achrya shree ki tarah bodhi samadhi prainaam vishuddhi swatmoplabdi sivsokhya siddhi ke marg par agrasar ho yahi bhavna hai…. Namostu shasan sangh ke page par please aap unka logo image bhi dal dijiye …yeh sharvak aur muni dharm ki prabhavan ka pratik hai.. Namostu shasan jaywant ho….

  2. भक्त says:

    जय जिनेन्द्र. धन्यवाद. यह तो जिन शासन की महिमा और यह सब प्रातः स्मरणीय अध्यात्म योगी चर्या शिरोमणी श्रमणाचार्य श्री १०८ विशुद्ध सागर जी का आशीर्वाद ही हैं कि हम अल्पज्ञानी कुछ कर पा रहे हैं.

    आचार्य श्री अपने प्रवचनों में कहते हैं – “जो हैं सो हैं.”

    नमोस्तु शासन जयवंत हो.

    नमोस्तु शासन याने जिन शासन को जयवंत करने वाले सभी भक्त.